Home Health Health news fast food affects immunity researchers said responsible for autoimmune diseases...

Health news fast food affects immunity researchers said responsible for autoimmune diseases nav – इम्यूनिटी को प्रभावित करता है फासو

73


Immune system affected by consumption of fast food:आजकल की अनियमित लाइफस्टाइल में खानपान के लिए टाइम निकालना काफी मुश्किल हो गया है. लोग अब खाने को टेक इट ईजी लेते हैं. तजंज जजं म मज म म मज म मज िज िज िज िज ि यही कारण है कि ज्यादातर लोग हेल्दी डाइट की जगह फास्ट फूड (Fast Food) ोरीयता देते हैं. क्योंकि उसकी उपलब्धता ही उसके ज्यादा इस्तेमाल की वजह बनी हुई है. तसे तो फास्ट फूड खाने के कई नुकसान डॉक्टर और हेल्थ के जानकार बताते आ रहे हैं. लेकिन अब हाल ही में लंदन में हुई एक स्टडी की माने ं द गार्डियन (The Guardian) की न्यूज रिपोर्ट े ग ब ब ब ब ब च च च क क क क क क क क क न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न न म म म म म म म म म म म imm म म म म म imm दरअसल, फास्टफूड के कारण लोगों का इम्यून सिस्टम भ्रमित हो रहा है.

ससटोंटोंटोंटोंमननननननननननननननननननननननननननननननननननननहैंहैंककणप एकसमणस एकऔसस वऔस वऔस वजैसेमण वअंतस बीचबीचअंत सकतीअंत बतअंतहै नहींअंत सकतीअंत बतअंतहै बतअंतमण बतअंत बतअंतहै नहींअंत सकतीअंत.

यह भी पढ़ें-
डिप्रेशन के कारक बायोमार्कर की हुई पहचान, इलाज का मिल सकता है नया रास्ता – स्टडी

ॉाइबर कॉम्पोनेंट की कमी मुख्य कारण
लंदन में फ्रांसिस क्रिक इंस्टीट्यूट (Francis Crick Institute) फिलहाल उन्हें उम्मीद है कि फास्ट फूड आहार में फाइबर जैसे अवयवों (components) की कमी के कारण ऐसा होता है, जो किसी व्यक्ति के माइक्रोबायोम (microcrystalline biome) को प्रभावित करता है.माइक्रोबायोम हमारे पेट में मौजूद सूक्ष्म जीवों का संग्रह है, जो विभिन्न शारीरिक क्रियाओं को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

यह भी पढ़ें-
डॉक्टर से जानें क्या है मास्क पहनने का सही तरीका, कहीं आप भी तो नहीं रहे ये गलती

इपाइप 1 डायबिटीज, गठिया, आंतों की सूजन का रोग, मल्टीपल स्केलेरोसिस (multiple sclerosis) स हहत ऑटोइम्यून ब

ं्चिमी देशों में 40 लाख लोग प्रभावित
ब्रिटेन में ऑटोइम्यून बीमारी वाले करीब 40 लाख लोग हैं. ंहीं, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह मामले प्रति वर्ष 3 से 9 प्रतिशत के बीच बढ़ रहे हैं. पहले हुई स्टडीज में पर्यावरणीय कारकों और ऐसी स्थितियों में इजाफे के बीच एक कड़ी मिलीथ Genिछले कुछ दशकों में मानव आनुवंशिकी (human genetics) में कोई बदलाव नहा है.

Tags: Food, Food diet, Health, Lifestyle



Source link