Home Health मसल्स की कमजोरी का मिलेगा बेहतर इलाज, लैब में ह्यूमन सेल विकसित...

मसल्स की कमजोरी का मिलेगा बेहतर इलाज, लैब में ह्यूमन सेल विकसित करने का खोजा तरीका – स्टडी

44


आजकल के बदलते लाइफस्टाइल की वजह से थोड़े समय बाद ही मांसपेशियां कई तरह की बीमारियों से घिर जाती हैं और उसके बाद ईार तो ऐसा होता है कि उम्र से पहले ही हम बूढ़े दिखने लगते हैं. Tohoku University – से सी ऐस सी ही परेशानियों से निजात पाने की कोशिश में जापान की तोहोकु स्टडी ं क क क क क क क क क क क क क क क स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स स क ये मसल्स काफी हद तक सिकुड़ने में सक्षम हैं. रिसर्च टीम ने इस मॉडल का यूज ‘स्पोरैडिक इन्क्लूजन बॉडी मिटोसिस (sporadic inclusion body mitosis) यानी एसआईबीएम (sIBM) से पपड़ Deको बता दें कि एसआईबीएम (sIBM) एक अपक्षयी (Degenerative) genीमारी है, जिसमें मसल्स धीरे-धीरे कमजोर होने गग 50स रोग से आमतौर पर 50 साल से ज्यादा उम्र के लोग प्रभावित होते हैं और इसमें उनकी उंगलियों और घटनों की

एक्सरसाइज के टाइम एसआईबीएम (sIBM) के मरीजों की मसल्स ि Sciस स्टडी का निष्कर्ष ‘साइंटिफिक रिपोर्ट्स (Scientific Reports)’ जर्नल में प्रकाशित किया गया है.

कैसे हुई स्टडी
स ससटडी लिए ‘लिएविटोो एकगयो हैकिएस गयसेलीयोग गयकेस डिशलंबेी गयलंबेी गयकेस गय मसलगएगएगएगएमेंमेंगएगएगएगएगएगएगएगएगएगएगएगएगएगए) उसमें सिकुड़ाव को प्रेरित करने और उनका असर देखने के लिए इलेक्ट्रिकल पल्स दिया गया. हालांकि, इन मॉडलों का यूज सीमित ही होता है. ममयोटयोटयोटयोटससप तौय मप प सिकुड़तीनहींहैययययपहैयययययहैययययययययययययययलैटलैटलैटलैट मेंचपटी होतीऔियल जिस में में में में में में मेंउससेियल में में में में में मेंउससेियल में में में में में मेंउससेियल में में में में मेंउससेियल में में में में में मेंउससेियल में में में में मेंउससेियल में में में में मेंउससेियल ुसकी तुलना में अन्य प्रजातियों, जैसे चूहों की मायोट्यूब्स उन्हीं स्थितियों में अधिक मजबूती से सिकुड़ती है.

क्या कहते हैं जानकार
Graduate School of Biomedical Engineering (adu्रैजुएट स्कूल) Oto्रोफेसर मकोतो कंजाकिओ (Makoto Kanzaki) नेनेययययकिकिकि किमॉडल विकसित हैनयनयतेमहैतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमतेमसीतेमतेमसीसीसीसीसीसीसी की भी गएज )सी (Biopy) की की भी जजंचसी (जिसके लिएलिएंच हैहै भी लिए अभी अभी सकतहै भी लिएलिए संसाधन है. ाायोट्यूब्स को विकसित करने में मदद के या उसे बढ़ावा देने के लिए रिसर्चर्स न

यह भी पढ़ें-
Remedies for Mouth Ulcers: Reminders for Mouth Ulcers:

चूहों की इन कोशिकाओं को फीडर सेल्स कहते हैं, जो मानव कोशिकाओं को बढ़ावा देने के लिए जरूरी प्रोटीन की आपूर्ति रर रिसर्चर्स ने पाया कि चूहों के फीडर सेल्स के बिना मान मायोट्यूब्स में विद्युतीय प्रभाव (इलेक्ट्रिकल स्टिम्यलैशन) में भी बहुत कम सिकुड़न होती है, लेकिन जब एक बार चूहों के सेल्स दे दिए जाते हैं, तो मानव मायोट्यूब्स में इलेक्ट्रिकल स्टिम्यूलेशन से स्वाभाविक सिकुड़न पैदा होता है.

यह भी पढ़ें-
World Water Day 2022: ब ज, अपचिहाइड्रेशन से बचने के लिए पिएं 3 लीटर पानी, होंगे ये अन्य लाभ

एसआईबीएम एसआईबीएमोगियों से लिए लिएमसलमसलमसलमसलससससकेकेिसतेमककककककककककचचकककककनचचचककककननथ कीसथथ ससथ कोशिकसथ कोशिकथथ कोशिकसथ कोशिकसथ कीसथ कीसथ कीसथ कीसथ. उन्होंने पाया कि एसआईबीएम मायोट्यूब्स के गुण मौलिक तौर पर सामान्य मायोट्यूब्स जैसे ही थे. दोनों में ही इलेक्ट्रिकल स्टिम्यलैशन से सिकुड़ाव आया. पससे पता चला कि मसल्स के इबाइबर संरचना का विकास हुआ, जिसे सारकोमेयर कहते हैं और उससे कंकालीय मांसपेशी प्यो

Tags: Health, Health News, Lifestyle



Source link